अश्वगंधा के फायदे, नुक्सान और सेवन का तरीका, ashwagandha benefits in hindi

अश्वगंधा के फायदे, नुक्सान और सेवन का तरीका, ashwagandha benefits in hindi

अश्वगंधा के फायदे – ashwagandha benefits in hindi : अश्वगंधा का नाम लगभग सभी इंसानो ने सुना होगा,लेकिन कुछ लोगो ने केवल इसका नाम ही सुना होता है,ऐसे लोगो के मन में कुछ सवाल आते है जैसे कि अश्वगंधा क्या है, अश्वगंधा के गुण क्या होते है? प्राचीन समय से अश्वगंधा को एक जड़ी-बूटी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, अश्वगंधा का उपयोग करके आपको कई सारे रोगो में लाभ प्राप्त होता है। अश्वगंधा के फायदे बहुत ज्यादा है,लेकिन अश्वगंधा के फायदे के साथ साथ कुछ नुक्सान भी होते है,जिनके बारे में जानना हम सभी के लिए जरुरी होता है| चलिए आज हम आपको अपने इस लेख में अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi), नुक्सान और सेवन करने का तरीका बताते है –

Table of Contents

अश्‍वगंधा क्या है या अश्वगंधा क्या होता है ? (What is Ashwagandha?)

अश्वगंधा एक बहुत ही उपयोगी औषधि होती है,जिन लोगो ने कभी अश्वगंधा नहीं देखा है तो उनके मन में सवाल होता है की अश्वगंधा का पेड़ होता है या बेल?  चलिए हम आपको आपके सवाल का जवाब बताते है अश्वगंधा का पौधा होता है, जिसकी लम्बाई 40 से 80 सेंटीमीटर तक होती है| अश्वगंधा की अलग अलग देशों में अलग अलग प्रकार की प्रजातियां होती है,भारत में अश्वगंधा की दो प्रजातिया पाई जाती है| आज के समय में कुछ जगहों पर अश्वगंधा की खेती भी की जाती है,लेकिन जंगल में पाए जाने वाले अश्वगंधा से बेहतर अश्वगंधा खेती वाल होता है| लेकिन अगर आप अश्‍वगंधा का तेल बनाना चाहते है तो वनों में पाया जाने वाला अश्‍वगंधा ही बेहतर होता है|

अश्‍वगंधा के नाम अनेक भाषाओं में (Ashwagandha named in Different Languages)

अलग अलग देशो और भारत के अलग अलग राज्यो अश्‍वगंधा को अलग अलग नामो से बोला जाता है,अश्‍वगंधा का का वानस्पतिक नाम (Botanical name) – Withania somnifera होता है,चलिए अब हम आपको अश्वगंधा के नामो के बारे में जानकारी उपलब्ध करा रहे है –

अश्वगंधा इन :-

  • हिंदी (ashwagandha in hindi) – असगन्ध, अश्वगन्धा, नागोरी असगन्ध
  • इंग्लिश (ashwagandha in English)– Winter cherry  (विंटर चेरी) 
  • संस्कृत (ashwagandha in Sanskrit) – वराहकर्णी, कुष्ठगन्धिनी, अश्वगंधा
  • ओड़िया (ashwagandha in Oriya) – असुंध (Asugandha)
  • उर्दू (ashwagandha in Urdu) – असगंधनागोरी (Asgandanagori)
  • कन्नड़ (ashwagandha in Kannada) – विरेमङड्लनागड्डी (Viremaddlnagaddi)
  • गुजराती (ashwagandha in Gujarati) – आसन्ध (Aasandh)
  • तमिल (ashwagandha in Tamil)– अमुक्किरा (Amukkira), अम्कुंग (Amkulang)
  • तेलुगु (ashwagandha in Telugu) – पैन्नेरुगड्डु (Panerugaddu), अश्वगन्धी (Ashwagandhi)
  • बंगाली (ashwagandha in Bengali) – अश्वगन्धा
  • नेपाली (ashwagandha in Nepali) – अश्वगन्धा
  • पंजाबी (ashwagandha in Punjabi) – असगंद
  • मलयालम (ashwagandha in Malyalam) – अमुक्कुरम (Amukkuram)
  • मराठी (ashwagandha in marathi) – असकन्धा (Askandha), टिल्लि (Tilli)
  • अरेबिक (ashwagandha in Arabic) – तुख्मे हयात (Tukhme hayat)
  • फारसी (ashwagandha in Farasi) – मेहरनानबरारी (Mehernanbarari)

अश्वगंधा के फायदे, ashwagandha benefits in hindi

अश्वगंधा के फायदे, Ashwagandha Benefits in Hindi

प्राचीन समय से आयुर्वेद में अश्वगंधा के पत्‍ते, अश्वगंधा चूर्ण या पॉउडर का उपयोग कई सारे बीमारियो को दूर करने के लिए किया जाता है| अश्वगंधा के फायदे बहुत सारे है लेकिन कुछ नुक्सान भी है,इसलिए अश्वगंधा के फायदे का लाभ पाने के लिए बिना वैध या चिकित्सक की सलाह के अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए,गलत और ज्यादा मात्रा में सेवन करने से नुकसान भी उठाना पड़ सकता है| चलिए अब हम आपको अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) बताते है –

सफेद बालो की समस्या में अश्वगंधा के फायदे

अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) अनेको है,उन फायदों में से एक फायदा सफ़ेद बालो के लिए भी है| अगर आपके बाल समय से पहले सफ़ेद हो रहे है तो अश्वगंधा आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| सफ़ेद बालो का घरेलू इलाज या दवाई बनाने के लिए आपको लगभग 2 से 4 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण या पॉउडर का सेवन करने से कुछ ही दिनों में लाभ प्राप्त होता है|

आंखों की रौशनी बढ़ाने का घरेलू इलाज है अश्‍वगंधा

अगर आप अपनी आँखों की रौशनी को बढ़ाना चाहते है तो 4 ग्राम अश्‍वगंधा, 4 ग्राम सूखा आंवला और 2 ग्राम मुलेठी लेकर तीनो को मिलकर मिक्सी की सहायता से पीसकर महीन चूर्ण बना लें,बस अब इस चूर्ण में से सुबह और शाम एक चम्मच चूर्ण को पानी के साथ सेवन करने से कुछ ही दिनों में आपकी आंखों की रौशनी बढ़ने लगेगी| अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) की वजह से आँखों की रौशनी बढ़ने लगती है|

गले से सम्बंधित परेशानियो में अश्वगंधा चूर्ण के फायदे (Ashwagandha powder benefits in Hindi)

जिस तरह से अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) होते है उसी प्रकार अश्वगंधा चूर्ण के फायदे (Ashwagandha powder benefits in Hindi) होते है| गले के रोग को दूर करने के लिए अश्‍वगंधा पाउडर और पुराने गुड़ दोनों को बराबर मात्रा में लेकर अच्छी तरह से मिलाकर लगभग आधा या एक ग्राम की गोली या वटी बना कर रख लें| नियमित रूप से सुबह बासी जल के साथ इन वती का सेवन करने से आपको गले की परेशानियो में रहत मिलेगी| अश्वगंधा के फायदे का लाभ तभी होता है जब आप सही मात्रा में सेवन करें,इसीलिए चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद सेवन करने से पूर्ण लाभ प्राप्त होता है|

कुकुर खांसी का घरेलू इलाज है अश्वगंधा

अगर आप खांसी या काली खांसी का घरेलू उपाय सर्च कर रहे है तो आपको सबसे अश्वगंधा की जड़ो के लेकर सूखा लें,फिर 10 ग्राम अश्वगंधा की जड़ों को अच्छी तरह से कूट लें,लगभग 400 मिलीग्राम पानी को उबलने रख दें,अब इसमें 10 ग्राम मिश्री और कुटी हुई अश्वगंधा डालकर पकाएं,जब पानी लगभग 50 मिलीग्राम हो जाएं,तब गैस बंद कर दें| इस काढ़े को थोड़ा थोड़ा पिलाने से काली या कुकुर खांसी में लाभ प्राप्त होता है।

कब्‍ज की समस्या का घरेलू इलाज है अश्वगंधा चूर्ण

अश्वगंधा के फायदे का लाभ कब्ज की परेशानी में भी प्राप्त होता है| कब्ज में राहत पाने के लिए लगभग 2 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण या पाउडर का सेवन गुनगुने पानी के साथ सेवन करें,जल्द ही कब्‍ज की परेशानी से निजात मिल जाएगी|

महिलाओं के लिए अश्वगंधा लाभ, ल्यूकोरिया का घरेलू उपाय या इलाज है अश्‍वगंधा चूर्ण (Ashwagandha Benefits to Leukorrhea in Hindi)

ल्यूकोरिया की परेशानी को दूर करने के लिए आप अश्वगंधा का इस्तेमाल कर सकते है| दो ग्राम अश्वगंधा चूर्ण में थोड़ी सी मिश्री मिला कर नियमित रूप से गाय के दूध के साथ सुबह और शाम सेवन करने से कुछ ही दिनों में ल्यूकोरिया की परेशानी में राहत मिल जाती है।

शारीरिक कमजोरी को दूर करने का घरेलू उपाय है अश्वगंधा

शारीरिक कमजोरी का घरेलू इलाज है अश्वगंधा चूर्ण,शारीरिक कमजोरी दूर करने की घरेलू दवा बनाने के लिए आपको 20 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण, 40 ग्राम तिल और 160 ग्राम उड़द लेकर,तीनो को मिक्सी की मदद महीन पीसकर चूर्ण बना लें,नियमित रूप से इस चूर्ण का सेवन ताजे पानी के साथ करने से जल्द ही शरीर की दुर्बलता दूर होने लगती है।

पुराने बुखार के लिए फायदेमंद है अश्‍वगंधा

अगर आप पुराने बुखार से पीड़ित है तो 2 ग्राम अश्‍वगंधा चूर्ण और 1 ग्राम गिलोय रस को अच्छी तरह से मिला कर मिश्रण बना लें,नियमित रूप से शाम को गुनगुने पानी या शहद के साथ इस मिश्रण को खाने से कुछ ही दिनों में पुराना बुखार ठीक होने लगता है।

पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल के फायदे, अश्वगंधा कैप्सूल के फायदे, Benefits of Patanjali Ashwagandha Capsule in Hindi

अश्वगंधा के औषधीय गुणों को देखते हुए बाबा रामदेव की कंपनी पंतजलि ने अश्वगंधा के कैप्सूल तैयार किए है| शहर में रहने वाले या जिन लोगो को अश्वगंधा की पहचान नहीं होती है या जिन लोगो के पास समय नहीं होता हैऐसे लोगो के लिए पंतजलि के कैप्सूल फायदेमंद है| चलिए अब हम आपको पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल के फायदे इन हिंदी की जानकारी देते है –

  • हिमालय अश्वगंधा कैप्सूल price
  • डाबर अश्वगंधा कैप्सूल price
  • पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल price

अश्वगंधा कैप्सूल के लाभ ,डाबर अश्वगंधा कैप्सूल के फायदे , हिमालय अश्वगंधा कैप्सूल के फायदे

  1.  नियमित रूप से पंतजलि अश्वगंधा कैप्सूल खाने से कमजोरी को दूर करने में लाभ प्राप्त होता है|
  2.  पंतजलि अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन करने से शुक्राणुओं की गुणवत्ता में सुधार के साथ साथ शुक्राणु जनन को उत्तेजित करने में लाभप्रद होते है|
  3.  नियमित रूप से अश्वगंधा कैप्सूल खाने से शरीर में धातुओं की वृद्धि होने के साथ साथ वीर्य को गाढ़ा करने में मदद करते है|
  4.  अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन करने से आपका शरीर शक्तिवर्धक, जोशवर्धक रहता है|
  5.  यह शरीर को शक्ति प्रदान करने के साथ साथ शरीर की मांसपेशियों को मजबूत और सुदृढ़ बनाने में सहायक होते है।
  6.  अश्वगंधा कैप्सूल का सेवन करने से पेशाब या यूरिन से सम्बंधित परेशानी, स्वप्नदोष और यौन दुर्बलता इत्यादि परेशानी में लाभ प्राप्त होता है|
  7.  अश्वगंधा का इस्तेमाल पुरुष और महिला दोनों कर सकते है,इसके सेवन से प्रजनन तंत्र बेहतर हो जाता है।

डाबर अश्वगंधा चूर्ण के फायदे, अश्वगंधा चूर्ण पतंजलि के फायदे, ashwagandha benefits for men 

अश्वगंधा हमारे शरीर की कई सारी परेशानियों को दूर या समाप्त करने के लिए चमत्कारी औषधि होती है| अश्वगंधा में मौजूद औषधीय गुण बीमारियों से बचाने के साथ साथ इंसान के दिमाग और मन को भी स्वस्थ रखने में सहायक होते है,लेकिन अश्वगंधा के फायदे पूर्ण रूप से लेने के लिए इसका सही मात्रा में सेवन करना जरुरी होता है,इसीलिए किसी वैध या चिकित्सक की सलाह के बाद ही अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करें,क्योंकि आपके शरीर के हिसाब से कितनी मात्रा उचित है इसकी सटीक जानकारी वैध या चिकित्सक ही दे सकते है| जिस तरह से अश्वगंधा के फायदे है,उसी प्रकार अश्वगंधा के चूर्ण के भी फायदे होते है,चलिए अश्वगंधा चूर्ण के कुछ फायदे हम आपको बताते है-

  • हिमालय अश्वगंधा चूर्ण price
  • झंडू अश्वगंधा चूर्ण price
  • पतंजलि अश्वगंधा चूर्ण price
  1. पुरुषत्व बढ़ाता है अश्वगंधा चूर्ण – अगर किसी इंसान को अपने पुरुषत्व में कमी लगती है तो अश्वगंधा चूर्ण आपके लिए लाभकारी होगा| अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से पुरुषों में नपुंसकता की परेशानी को दूर किया जा सकता है, पुरुषत्व को बढ़ाने में रामबाण उपाय होता है अश्वगंधा चूर्ण| की तरह काम करता है। पुरुषों की यौन क्षमता बढ़ाने के लिए नियमित रूप से दूध या पानी के साथ अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से जल्द लाभ प्राप्त होता है|

  2. तनाव दूर करने का घरेलू इलाज है अश्वगंधा चूर्ण – आज के समय अधिकतर लोग डिप्रेशन और तनाव की परेशानी का सामना कर रहे है,अश्वगंधा चूर्ण के औषधीय गुण आपको शारीरिक और मानसिक दोनों तनावों में रहत प्रदान कर सकते है| भोजन के साथ अश्वगंधा चूर्ण का सेवन करने से आपको लाभ मिलता है|

  3. डायबिटीज को कम करने का घरेलू इलाह है अश्वगंधा चूर्ण – अगर आपके शरीर में ब्लड शुगर का स्तर कम या आप कम मधुमेह की परेशानी का सामना कर रहे है तो अश्वगंधा चूर्ण आपके लिए लाभकारी हो सकता है| अश्वगंधा चूर्ण का सेवन से कुछ ही दिनों में ब्लड शुगर का स्तर कम होने लगता है,लेकिन हम आपको सलाह देंगे की डायबिटीज की परेशानी में अश्वगंधा का सेवन करने से पहले एक बार चिकित्सक से परामर्श जरूर लें|

अश्वगंधा शतावरी के फायदे और नुक्सान

अश्वगंधा और शतावरी दो ऐसी जड़ी बूटी का उपयोग प्राचहिन समय से आयुर्वेद में होता आया है, अश्वगंधा शरीर को मजबूत बनाने के साथ साथ वजन बढ़ाने में भी मददगार साबित होता है,दूसरी तरफ शतावरी महिला और पुरुष दोनों में प्रजनन प्रक्रिया को बेहतर और पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करता है। अगर आप शतावरी और अश्वगंधा दोनों का उपयोग साथ में करते है तो आपके शरीर का वजन बढ़ने के साथ साथ खून साफ़ भी होता है| चलिए अब हम आपको अश्वगंधा शतावरी के फायदे, नुकसान और सेवन करने का तरीका बताते है- 

अश्वगंधा शतावरी के फायदे

  1.  तनाव कम करने का घरेलू इलाज हैं अश्वगंधा और शतावरी  –  तनाव की समस्या किसी भी महिला या पुरुष को हो सकती है,किसी भी महिला या पुरुष के शरीर में कोर्टिसोल नामक हॉर्मोन की मात्रा बढ़ने पर शरीर में तनाव या रक्त में शुगर का स्तर बढ़ जाता है| अश्वगंधा में मौजूद औषधीय गुण शरीर में कोर्टिसोल की मात्रा को कम करने में सहायक होते है,लेकिन अश्वगंधा की तासीर गर्म होती है,दूसरी तरफ शतावरी की तासीर ठंडी होती है जो दिमाग को ठंडा रखने में सहायक होती है| इसीलिए अश्वगंधा और शतावरी का सेवन नियमित रूप से करने से आपको तनाव से मुक्ति मिल सकती है| 
  2.  बालों के लिए फायदेमंद है अश्वगंधा और शतावरी  –  प्राचीन समय में बालो से सम्बंधित परेशानियो को दूर करने के लिए अश्वगंधा और शतावरी का इस्तेमाल किया जाता था| अश्वगंधा और शतावरी चूर्ण का सेवन करने से महिला या पुरुष के बालों की जड़ों में रक्त का संचार बेहतर बनता है,जिसकी वजह से इंसान के बालो की जड़ें मजबूत होती है और बाल तेजी से घने और बढ़े होने लगते है| नियमित रूप से अश्वगंधा और शतावरी चूर्ण को दूध के साथ सेवन करने से बहुत जल्द आपके बाल लम्बे और मजबूत होने लगेंगे।
  3.   दिमाग को तेज करने के लिए करे अश्वगंधा और शतावरी का सेवन –  अश्वगंधा और शतावरी में मौजूद औषधीय गुण दिमाग को तेज़ बनाने में मददगार साबित होते है। हालाँकि आयुर्वेदिक चिकित्सा में दिमाग के लिए अश्वगंधा और शतावरी कितना फायदेमंद है इस पर कई सारे परिक्षण चल रहे हैं। नियमित रूप से अश्वगंधा और शतावरी का सेवन करने वाले इंसान के दिमाग का प्रदर्शन बेहतर होने लगता है|

अश्वगंधा और शतावरी के नुकसान (side effects of ashwagandha and shatavari in hindi)

जिस तरह शतावरी और अश्वगंधा के फायदे होते है उसी तरह से इन दोनों के कुछ नुक्सान भी देखने को मिलते है,चलिए अब हम आपको इनके कुछ नुक़्सानो के बारे में बताते है-

  •  कई बार अश्वगंधा और शतावरी का इस्तेमाल करने से किडनी की परेशानी या घाव का सामना करना पड़ सकता हैं।
  •  अत्यधिक शतावरी की मात्रा लेने से कई बार डायरिया,दस्त या पेट में दर्द की परेशानी भी हो सकती है।
  •  किसी भी गर्भवती महिला या स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अश्वगंधा और शतावरी के सेवन से बचना चाहिए
  •  किसी भी प्राकृतिक औषधि या अश्वगंधा और शतावरी लेने से त्वचा और बालों से सम्बंधित परेशानी का सामना भी करना पड़ सकता है|

अश्वगंधा और शतावरी का सेवन कैसे करे? (how to eat ashwagandha and shatavari in hindi)

अश्वगंधा और शतावरी का उपयोग आप अश्वगंधा और शतावरी की चाय,अश्वगंधा और शतावरी का चूर्ण, अश्वगंधा और शतावरी की गोली(टेबलेट) इत्यादि के रूप में कर सकते है| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की शतावरी और अश्वगंधा के फायदे का पूर्णरूप से लाभ प्राप्त करने के लिए उचित मात्रा में सेवन जरुरी होता है,इसीलिए अश्वगंधा और शतावरी का इस्तेमाल किसी वैध या चिकित्सक के परामर्श के बाद ही लें|  

शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे 

शिलाजीत और अश्वगंधा के फायदे अनेको है,अश्वगंधा का पौधा होता है लेकिन शिलाजीत का कोई पेड़ या बेल नहीं होती है| शिलाजीत खास प्रकार की चट्टानो में पाई जाती है,शिलाजीत में कई प्रकार के मिनरल्स और तत्व पाए जाते है,अधिकतर लोग शिलाजीत के बारे में यह जानते है की शिलाजीत सेक्‍स पॉवर को बढ़ाने के काम आती है लेकिन सच यह है की शिलाजीत का उपयोग करने से आपको कई सारी बीमारियो में भी लाभ प्राप्त होता है| अगर आप टाइमिंग बढ़ाने के लिए घरेलू दवा ढूंढ रहे है तो अश्वगंधा और शिलाजीत का सेवन करने से आपको बहुत जल्द लाभ प्राप्त होगा|पहले के समय में इंसान को अश्वगंधा और शिलाजीत का इस्तेमाल करने के लिए खुद चूर्ण बनाना पड़ता था लेकिन अब समय बदल गया है| आज के समय कई ऐसी कंपनी है जो अश्वगंधा और शिलाजीत का चूर्ण और टेबलेट बना रही है,जिन्हे आप ऑनलाइन या बाजार से खरीद कर सेवन कर सकते है| (और पढ़ें – टाइम बढ़ाने की मेडिसिन पतंजलि, time badhane ki medicine )

महिलाओं के लिए अश्वगंधा लाभ और अश्वगंधा के फायदे, ashwagandha benefits for women

अश्वगंधा के फायदे केवल पुरुषो के लिए ही नहीं है,बल्कि अश्वगंधा जितना पुरुषो के लिए फायदेमंद है उतना ही महिलाओ के लिए भी लाभदायक होता है| ख्याल रखे अश्वगंधा के फायदे का लाभ लेने के लिए सही मात्रा में सेवन जरुरी होता है| चलिए अब हम आपको महिलाओ के लिए अश्वगंधा के फायदे के बारे में जानकारी देते है-

  1. मेनोपॉज का घरेलू इलाज है अश्वगंधा  –  ऐसी महिला मेनोपॉज से सम्बंधित परेशानी का सामना कर रही है उनके लिए अश्वगंधा लाभकारी साबित हो सकता है| अश्वगंधा में मौजूद गुण महिलाओं के शरीर में एंडोक्राइन सिस्टम को उत्तेजित करके हॉर्मोंन्स के सिक्रिशन को भी रेगुलेट करने में मदद करता है,जिसकी वजह से मेनोपॉज के दौरान होने वाली परेशानी से राहत प्राप्त होती है|  

  2. वेजाइनल इंफेक्शन की दवा है अश्वगंधा  –  अश्वगंधा में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुण प्रचुर मात्रा में होते है,अगर आप वेजाइनल इंफेक्शन की परेशानी का सामना कर रहे है और आप कोई घरेलू इलाज सर्च कर रही है तो अश्वगंधा आपके लिए बेहतर विकल्प साबित हो सकती है| नियमित रूप से अश्वगंधा का सेवन करने से वेजाइना इंफेक्शन,सूजन और खुजली की परेशानी को कम करने में मददगार साबित होता है|
  3. डिंब की गुणवत्ता को सुधारने में सहायक  –  अश्वगंधा के फायदे में से एक फायदा यह भी है,ऐसी महिला जिनके डिंब में कमजोरी या अन्य परेशानी का सामना कर रहे है तो नियमित रूप से अश्वगंधा का सेवन करने से कुछ ही दिनों में अश्वगंधा गर्भाशय और अंडाशय को मजबूती प्रदान करके आपको गर्भ धारण करने मददगार साबित हो सकता है|
  4. सफ़ेद पानी की समस्या का रामबाण इलाज है अश्वगंधा  – आज के समय में वाइट डिस्चार्ज और सफेद पानी की परेशानी का सामना अधिकतर महिला करती है, अगर आप भी उनमे से एक है तो सफ़ेद पानी का घरेलू इलाज है अश्वगंधा| नियमित रूप से अश्वगंधा का सेवन करने से बहुत जल्द आपको सफ़ेद पानी की समस्या से छुटकारा मिल सकता है|

अश्वगंधा चूर्ण पतंजलि price, पतंजलि अश्वगंधा पाउडर के फायदे, अश्वगंधा चूर्ण के फायदे  

जिस तरह से अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) है,उसी प्रकार अश्वगंधा चूर्ण भी हमारे लिए काफी दायक होता है| अश्वगंधा का इस्तेमाल चूर्ण के रूप में भी किया जाता है| अश्वगंधा चूर्ण बनाने की विधि बहुत ही आसान है,चूर्ण बनाने के लिए सबसे पहले आपको अश्वगंधा की जड़ लेकर उसे धूप में सूखा लेना है,धुप में इसीलिए रखना जरुरी है क्योंकि अगर जड़ में नमी रहती है तो चूर्ण जल्दी खराब हो जाता है| अश्वगंधा की जड़ के सूखने के बाद उसे मिक्सी या इमाम दस्ता की मदद से पीस कर महीन चूर्ण या पाउडर बना लें,बस अब अश्वगंधा पाउडर को एयर टाइट डिब्बे में रख लें| आप चाहे तो अश्वगंधा चूर्ण ऑनलाइन भी खरीद सकते है|

अश्वगंधा और दूध का सेवन – अश्वगंधा के फायदे     

दूध में मौजूद गुण और पौष्टिक तत्व हमारे शरीर में होने वाली कमी को पूरा करने में सहायक होते है,नियमित रूप से दूध का सेवन करने से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है| अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) बहुत सारे है,लेकिन अगर आप अश्वगंधा का सेवन दूध के साथ करते है तो उसके लाभ और भी ज्यादा बढ़ जाते है| अश्वगंधा के फायदे हम आपको नीचे बताएंगे,दूध और अश्वगंधा का सेवन करने से मोटापे को घटाने में,कमजोरी दूर करने में,ऑस्टियोपोरोसिस की परेशानी में, हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में इत्यादि परेशानी को दूर करने में लाभ प्राप्त होता है|     

अश्वगंधा और शहद खाने के फायदे

ऐसे पुरुष जो वीर्य में कमी की परेशानी का सामना कर रहे है तो ऐसे पुरुषो के लिए अशवगंधा और शहद का सेवन बहुत ही फायदेमंद साबित होता है| अगर आप भी वीर्य की मात्रा को बढ़ाना चाहते है तो एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण, घी, थोड़ा सा शहद और चीनी इन सब चीजों को एक साथ लेकर अच्छी तरह से मिलाकर खा लें,नियमित रूप से इस नुस्खे को करने से कुछ ही दिनों में आपको लाभ प्राप्त हो जाता है|

शिलाजीत अश्वगंधा सफेद मूसली पतंजलि

शायद ही कोई महिला या पुरुष हो जो अपने को बूढ़ा देखना चाहता है,अगर आप भी अपनी बढ़ती उम्र को असर अपनी त्वचा पर आने से रोकने के साथ साथ झुर्रीदार त्वचा से बचना चाहते है तो आपके लिए यह इलाज फायदेमंद हो सकता है| पंतजलि ने शिलाजीत, अश्वगंधा तथा सफेद मूसली को मिलाकर एक दवा तैयार की है,जिसके नियमित सेवन करने से आपके शरीर में ताकत और आपकी त्वचा पर बढ़ती उम्र का प्रभाव नहीं पड़ता है| आप चाहे तो पंतजलि की यह दवा ऑनलाइन भी खरीद सकते है|

शिलाजीत अश्वगंधा सफेद मूसली कौंच बीज के फायदे

अगर आप शीघ्रपतन का देसी इलाज या घरेलू उपाय सर्च कर रहे है तो यह नुस्खा आपके लिए लाभकारी साबित हो सकता है| इस दवाई को तैयार करने के लिए सबसे पहले आपको कौंच के बीज, सफेद मूसली और अश्वगंधा तीनो चीजों को बराबर बराबर मात्रा में लें लें,फिर इसमें थोड़ी सी मिश्री लेकर सबको महीन पीस कर चूर्ण बना लें| नियमित रूप से सुबह और शाम एक कप दूध के साथ सेवन करने से कुछ ही दिनों में शीघ्रपतन और वीर्य की कमी इत्यादि परेशानी से मुक्ति मिल जाती हैं।

अश्वगंधा, सफेद मूसली और शतावरी के फायदे 

अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) अधिकतर लोग जानते ही है,लेकिन अगर आप अश्वगंधा,सफ़ेद मूसली और शतावरी तीनो को मिलकर सेवन करते है तो आपके शरीर में हार्मोन का लेवल, प्रजनन स्वास्थ्य और टाइमिंग में सुधार होने लगता है| यदि आप टाइमिंग से सम्बंधित परेशानी का सामना कर रहे है तो रोजाना अश्वगंधा के साथ शतावरी और सफेद मूसली के चूर्ण का सेवन करने से आपको कुछ ही दिनों में लाभ प्राप्त होगा|

अश्वगंधा का सेवन विधि – when to take ashwagandha

अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) आपने ऊपर पढ़ लिए है,अब आपके मन में सवाल आ रहा होगा की अश्वगंधा का सेवन किस तरह कर सकते है या सेवन का तरीका कया है| अश्वगंधा के फायदे का सही और पूर्ण लाभ प्राप्त करने के लिए सेवन करने का तरीका और मात्रा का पता होना बहुत जरुरी है| अश्वगंधा का उपयोग चूर्ण और काढ़ा के रूप में किया जा सकता है,आमतौर पर चूर्ण का सेवन 2 से 4 ग्राम और काढ़े का सेवन 10 से 30 मिलीग्राम से ज्यादा नहीं करना चाहिए| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की चिकित्सक या वैध के परामर्श के अनुसार सेवन और मात्रा लेने से ही लाभ जल्दी और पूर्ण प्राप्त होता है|

अश्वगंधा के नुकसान – side effects of ashwagandha 

अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) होने के साथ साथ कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं। वैसे तो अश्वगंधा के दुष्प्रभाव कम ही देखने को मिलते है लेकिन इसकी अधिक मात्रा अगर शरीर में पहुँच जाती है तो इसके नकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिलते है| इसलिए अश्वगंधा की सही मात्रा में सेवन करना बहुत जरुरी होता है,चलिए अब हम आपको अश्वगंधा के नुकसान के बारे में बताते है-

  1.  अश्वगंधा का सेवन अधिक मात्रा में करने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल, दस्त और उल्टी इत्यादि परेशानी का सामना करना पढ़ सकता है|
  2.  गर्भवती महिला को अश्वगंधा के सेवन से नुकसान भी उठाना पढ़ सकता हैं,कई बार अश्वगंधा के अधिक मात्रा के सेवन से गर्भपात भी हो सकता है।
  3.  अगर कोई इंसान शराब और अन्य मादक पदार्थों का सेवन करता है तो ऐसे इंसान को अश्वगंधा का सेवन नहीं करना चाहिए वरना परिणाम घातक भी हो सकते है|
अश्वगंधा के फायदे हिंदी में, अश्वगंधा के फायदे इन हिंदी

हम आशा करते है की आपको हमारा लेख अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi) पसंद आया होगा| लेकिन आपको हमेशा खेल रखना चाहिए की अश्वगंधा के फायदे के साथ साथ कुछ नुक्सान भी होते है,अश्वगंधा की सही और उचित मात्रा में सेवन करने से ही आपको पूर्ण लाभ प्राप्त होगा| इसीलिए अश्वगंधा के फायदे का लाभ लेने के लिए किसी चिकित्सक या वैध की सलाह के बाद ही सेवन करें| अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कम या पसंद नहीं आ रही है तो आप गूगल या बिंग पर जाकर अश्वगंधा के फायदे (ashwagandha benefits in hindi)  सर्च कर सकते है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!