छाती या सीने में दर्द का घरेलू इलाज, लक्षण और कारण, best chest pain home remedies in hindi

छाती या सीने में दर्द का घरेलू इलाज, लक्षण और कारण, best chest pain home remedies in hindi

सीने में दर्द (chest pain home remedies in hindi) की परेशानी किसी भी महिला या पुरुष कभी भी हो सकती है, सीने में दर्द होने के कई कारण हो सकते है| सीने में दर्द होने पर इंसान को अलग अलग तरह के लक्षण महसूस हो सकते है| कई बार छाती में भारीपन और दर्द, तेज चुभन से लेकर सीने में हल्का हल्का दर्द भी हो सकता है।

चेस्ट पैन में कई बार इंसान को सीने में दबाव और जलन की परेशानी भी महसूस होती है और कुछ लोगों को सीने में दर्द (चेस्ट पैन) के कारण गर्दन और जबड़ों में भी दर्द की परेशानी होती है| आयुर्वेद के अनुसार किसी भी इंसान के सीने में दर्द वात, पित्त और कफ तीनों दोषों की वजह से होता है। अगर आपके सीने में दर्द लगातार हो रहा है तो आपको तुरंत सीने में दर्द का इलाज चिकित्सक से कराना चाहिए|

आप चाहे तो सीने में दर्द का घरेलू इलाज (chest pain home remedies in hindi) करके भी दर्द से राहत प्राप्त कर सकते है| कुछ लोगो को लगता है की सीने में दर्द केवल दिल का दौरा पड़ने की वजह से ही होता है, लेकिन यह सच नहीं है| सीने में दर्द के लक्षण बहुत सारे अलग कारणों की वजह से महसूस होते हैं। चलिए हम आपको सीने में दर्द (chest pain home remedies in hindi) के बारे में विस्तार से बताते है –

Table of Contents

सीने में दर्द होना क्या है? (What is Chest Pain in Hindi?)

आयुर्वेद के अनुसार किसी भी इंसान के सीने में दर्द (sine me dard) होने के पीछे कई सारे कारण हो सकते हैं। किसी भी पुरुष या महिला के शरीर में वात, पित्त और कफ तीनो दोषो में से किसी भी दोष के घटने या बढ़ने की वजह से चेस्ट पैन में दर्द की परेशानी होती है। सीने में दर्द का घरेलू इलाज (chest pain home remedies in hindi) अपनाने से पहले हमे सीने में दर्द होने कारण भी जानना बहुत जरुरी है|

जब हम अपने मुख से भोजन ग्रहण करते है तो हमारे द्वारा किया गया भोजन, भोजन नली से होता हुआ हमारे पेट में पहुँचता है, पेट के अंदर की परत हमारे मुंह से आए हुए भोजन को हजम करने का काम करने के साथ साथ एसिड भी बनाती है। कुछ लोगो की भोजन नलीका ठीक से बन्द ना होने की वजह से पेट का एसिड इसोफैगस में पहुँच जाता है।

इस एसिड की वजह से भी छाती में भारीपन व दर्द (chest pain in hindi) और तेज जलन की परेशानी होती है। इस परेशानी को जीई आरडी या एसिड रिफ्लकस भी कहा जाता है। किसी भी इंसान को दिल का दौरा पड़ने से पहले दर्द और जकड़न की परेशानी शरीर के अन्य हिस्सों में भी हो सकती है और बाँह, कमर, गर्दन या जबड़े में दर्द या भारीपन भी हो सकता है। कभी कभी यह दर्द की परेशानी शरीर के किसी भी एक हिस्से से शुरु होकर सीधे सीने तक पहुँच जाता है, इसीलिए कुछ लोग इसे हार्ट बर्न से जोड़ने लगते है जो की गलत होता है|

सीने में दर्द होने के कारण (Causes of Chest pain in hindi)

चेस्ट पैन या सीने में दर्द होने के कारण हृदय संबंधी समस्या या कुछ अन्य कारणों (chest pain reasons in hindi) से भी हो जाता है। कई बार फेफड़ों में संक्रमण, मांसपेशियों, पसलियों में किसी प्रकार की परेशानी होने की वजह से भी सीने में दर्द के परेशानी हो सकती है| सीने में दर्द होने के बहुत सारे कारण हो सकते है चलिये हम आपको बताते है की चेस्ट पैन होने के कारण कौन कौन से है –

  • किसी भी इंसान को अगर फेफड़े की बीमारी होती है तो इस वजह से भी सीने या छाती में दर्द की परेशानी हो सकती है| फेफड़े की परेशानी होने पर छाती के बगल में दर्द की परेशानी हो सकती है जो की सांस लेने या खाँसने से दर्द के परेशानी बढ़ जाती है। फेफड़ो की बिमारी जैसे निमोनिया, दमा इत्यादि सीने या छाती में दर्द (chati me dard) की वजह हो सकते है।
  • किसी भी पुरुष की छाती की अंदरूनी दीवारों में सूजन आने की वजह से भी सीने में दर्द (chest pain home remedies in hindi) की परेशानी हो सकती है| छाती की अंदरूनी दीवारों में सूजन आने को प्ल्यूराइटिस बिमारी कहा जाता है| किसी भी इंसान को टीबी के संक्रमण या निमोनिया की वजह प्ल्यूराइटिस की बीमारी हो सकती है|
  • सीने में दर्द (chest pain home remedies in hindi) का एक प्रमुख कारण टीबी भी हो सकता है| टीबी में फेफड़ों की झिल्ली में सूजन की परेशानी हो जाती है जिसकी वजह से मरीज के सीने में दर्द की परेशानी हो जाती है|
  • अगर किसी भी इंसान के सीने में बाई और दर्द हो रहा है तो इसका कारण हार्ट अटैक भी हो सकता है| अगर आपके सीने में दर्द बार बार हो रहा है तो आपको एंजाइना पेक्टोरिस की परेशानी हो सकती है| जिसका इलाज सही समय पर ना हो तो यह दिल की बिमारी में भी बदल सकती है| इस परेशानी में दिल को पूर्ण ऑक्सीजन ना मिलने की वजह से सीने में दर्द के साथ सांस लेने में दिक्कत (heart attack ke karan) भी हो सकती है|
  • अगर किसी भी इंसान को हृदय की धमनियों के दर्द की परेशानी होती है तो इसे पेरिफेरल वैस्कुलर के नाम से जाना जाता है। हृदय से शरीर के सभी अंगो और दिमाग को रक्त संचरण करने वाली धमनियों में अगर रक्त संचरण बाधित हो जाता है तो भी छाती में दर्द (chati me dard) की परेशानी हो सकती है|
  • अगर आपकी सीने की पसली कभी टूटी हो या पसलियो में किसी प्रकार की चोट लगने की वजह से छाती में दर्द की परेशानी हो सकती है| पसलियो में चोट सही होने के बाद भी भी कई बार सीने में दर्द की समस्या हो सकती है|
  • ऐसे बहुत से इंसान होते है जिन्हे पेट की समस्या या पेट की बीमारी होती है कई बार पेट की बिमारी की वजह से भी छाती में दर्द (chest pain home remedies in hindi) हो सकता है। एसिडिटी, भोजन नली में ऐंठन या पेप्टिक अल्सर इत्यादि की वजह से सीने में दर्द की परेशानी हो सकती है|

chest pain home remedies in hindi

सीने में दर्द का घरेलू इलाज, सीने में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज (chest pain home remedies in hindi)

अधिकतर इंसान सीने में दर्द होने पर मेडिकल या एलोपेथिक दवाई की तरफ रुख करते है, लेकिन अगर आप सीने में दर्द का घरेलू इलाज घरेलू नुस्खों से करते है तो भी आपको आराम आसानी से और घर पर ही मिल जाता है| चलिए आज हम आपको सीने में दर्द का घरेलू इलाज के बारे में जानकारी देते है-

सीने में दर्द का घरेलू इलाज है लहसुन (chest pain home remedies in hindi)

लगभग सभी में लहसुन का इस्तेमाल होता ही है, लेकिन अगर आपके घर में लहसुन उपलब्ध नहीं है तो बाजार से बहुत आसानी से मिल जाता है| लहसुन को दर्द निवारक (सीने में दर्द का घरेलू इलाज) के रूप में भी जाना जाता है, लहसुन में मौजूद गुण छाती में दर्द का इलाज (chest pain home remedies in hindi) करने के लिए बहुत उपयोगी होता है।

नियमित रूप से लहसुन का सेवन करने से हृदय से सम्बंधित रोग होने की संभावना बहुत कम हो जाती है| लहसुन शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को संतुलित करने में भी सहायक होता है, लहसुन का सेवन करने से शरीर में रक्त प्रवाह में भी सुधार आता है। नियमित रूप से थोड़े से गर्म पानी में 1 चम्मच लहसून का रस डालकर सेवन करने से बहुत अधिक लाभ प्राप्त होता है|

सीने में दर्द का आयुर्वेदिक इलाज है अदरक (chest pain home remedies in hindi)

अदरक हमारे शरीर के लिए काफी लाभदायक होता है, अदरक में मौजूद जिंजरोल नामक रासायनिक यौगिक शरीर में मौजूद कोलेस्ट्राल के स्तर को संतुलित करने में सहायक होता है| अदरक के एंटीऑक्सीडेंट गुण हमारे शरीर में मौजूद रक्त वाहिकाओं को खराब होने से बचाने में सहायक होते है, इसीलिए नियमित रूप से अदरक का सेवन करना चाहिए, अदरक का सेवन आप किसी भी रूप में कर सकते है| आप चाहे अदरक की चाय पिएँ, कच्चे अदरक का सेवन भी कर सकते है या थोड़े से पानी में अदरक डाल कर कुछ देर पानी को उबाले, उसके बाद पानी को ठंडा करके पी लें, कुछ लोग सब्जी में भी अदरक डालते है| अदरक (सीने में दर्द का घरेलू इलाज) का सेवन किसी भी तरह कीजिए आपके लिए लाभदायक ही होगा|

छाती या सीने में दर्द का घरेलू इलाज है बादाम (chest pain home remedies in hindi)

बादाम में मौजूद पॉली नैचुरल फैटी एसिड (Poly Natural Fatty Acid),मैग्नीशियम और अन्य गुण शरीर में कोलेस्ट्राल की मात्रा को कम करने के साथ साथ सीने में दर्द का इलाज या दर्द होने की सम्भावना को कम करता है। अगर आप सीने में दर्द का इलाज (chest pain home remedies in hindi) करना चाहते है तो एक चम्मच बादाम का तेल और एक चम्मच्च गुलाब का तेल लेकर दोनों को अच्छी तरह से मिलाकर सीने पर हल्के हाथ से मालिश करते हुए लगा लें, जल्द ही आपको लाभ प्राप्त मिलेगा|

कलेजे में दर्द के घरेलू उपाय है हल्दी (chest pain home remedies in hindi)

हल्दी में मौजूद करक्यूमिन थक्का बनाने और धमनी प्लाक को कम करने के साथ साथ सीने की सूजन को भी कम करने में मददगार होता है। अगर आप सीने में दर्द का घरेलू इलाज घरेलू नुस्खे से करना चाहते है तो हल्दी आपके लिए बेहतर विकल्प है| सीने में दर्द का इलाज करने के लिए नियमित रूप से एक गिलास गुनगुने दूध में हल्दी मिलाकर सेवन करने से सीने के दर्द (chest pain home remedies in hindi) में राहत मिलती है।

एनजाइना रोग के घरेलू उपाय है एलोवेरा (chest pain home remedies in hindi)

एलोवेरा को हम चमत्कारी पौधा भी कह सकते है, एलोवेरा में मौजूद औषधीय गुण हृदय को मजबूत करने, अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रित करने, ट्राइग्लिसराइड के लेवल को कम करने और रक्तचाप को कम करने के साथ साथ अन्य कई परेशानियो को कम करने में मदद करता है| एलोवेरा ऐसी परेशानियो को भी दूर करता है जिनकी वजह से सीने में दर्द हो सकता है, नियमित रूप से थोड़ा सा एलोवेरा जूस पीने से आपको काफी लाभ मिलता है| सीने में दर्द का घरेलू इलाज (chest pain home remedies in hindi) करने में यह नुस्खा काफी लाभदायक होता है|

कलेजे में दर्द के घरेलू उपाय है अनार (chest pain home remedies in hindi)

अनार के फायदे के बारे में लगभग सभी जानते है, अनार में मौजूद पोषक तत्व और गुण हृदय की समस्याओं को दूर करने में भी सहायक होते है। अनार में मौजूद एन्टीऑक्सीडेंट और एंटी इफ्लेमेंटरी गुण सीने में दर्द का इलाज करने में सहायक होते है| नियमित रूप से अनार का जूस पीने से आपका शरीर स्वस्थ रहता है और आप अपने आपको कई बीमारियो के प्रभाव से भी बचा सकते है|

छाती सीने में दर्द का घरेलू इलाज है तुलसी (chest pain home remedies in hindi)

तुलसी में मौजूद औषधीय गुण और विटामिन के, मैग्नीशियम इत्यादि पोषक तत्व हृदय में रक्त संचरण में होने वाले कोलेस्ट्रॉल के निर्माण को रोकने में मदगार होते है| तुलसी (सीने में दर्द का घरेलू इलाज) हृदय विकारों को रोकने के साथ साथ सीने में दर्द का इलाज करने में मदद करती है। नियमित रूप से एक चम्मच तुलसी का रस और थोड़ा सा शहद आपस में मिलाकर सेवन करने से सीने में दर्द का इलाज हो सकता है|

सीने में दर्द के दौरान कया खाना चाहिए

अगर आप सीने में दर्द से परेशान है तो आपको सीने में दर्द का इलाज करने साथ साथ अपने खान पान का भी ख्याल रखना बहुत जरुरी है,चलिए हम आपको बताते है की आपको कया खाना चाहिए –

  • अपने भोजन में उन चीजों को शामिल करें जिनमे फाइबर प्रचुर मात्रा में हो|
  • खाने में नमक की मात्रा कम से कम लेने की कोशिश करें|
  • नियमित रूप से अनार का जूस (सीने में दर्द का घरेलू इलाज) का सेवन करें|

सीने में दर्द के दौरान कया नहीं खाना चाहिए या किन चीजों का परहेज करें

अगर आपको सीने में दर्द है तो आपको कुछ चीजों का परहेज करना चाहिए अगर आप ऐसा नहीं करते है तो आपकी परेशानी बड़ सकती है|

  • जंक फ़ूड (chest pain home remedies in hindi) या बाहर का खाना खाने से परहेज करें|
  • धूम्रपान बिलकुल भी ना करें|
  • गरम मसाले का सेवन कम से कम करें|
  • शराब या अन्य मादक पदार्थो का सेवन (chest pain home remedies in hindi) करें से बचें|

हम आशा करते है की आपको हमारा लेख सीने में दर्द का घरेलू इलाज (chest pain home remedies in hindi) पसंद आया होगा| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की आपके सीने में दर्द की शिकायत होने पर तुरंत चिकित्सक से मिलें, चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद ही किसी भी प्रकार की दवाई का सेवन करें| अपनी मर्जी से किसी भी दवाई का उपयोग ना करें|

घरेलु नुस्खों का पूर्ण लाभ लेने के लिए किसी वैध से परामर्श लेने के बाद अपनाने से मिलता है क्योंकि वैध या चिकित्सक आपके शरीर के हिसाब से दवाई की उचित मात्रा बताता है| सीने में दर्द का घरेलू इलाज करने के लिए घरेलू नुस्खे अपनाएं जा सकते है, अगर आपको हमारा लेख सीने में दर्द का घरेलू इलाज पसंद नहीं आया है तो आप गूगल या बिंग पर सीने में दर्द का घरेलू इलाज (chest pain home remedies in hindi)  लिखकर सर्च कर सकते है|

सीने में दर्द का घरेलू इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!