durga devichi aarti

durga devichi aarti , दुर्गे दुर्घट भारी आरती

धार्मिक
85 / 100

durga devichi aarti : दुर्गा माता को सबसे शक्तिशाली देवियो में से एक माना जाता है| जो भी महिला या पुरुष दुर्गा माँ की साफ़ मन और सच्ची श्रध्दा से पूजा, अर्चना, आरती करता है दुर्गा माँ उसकी इच्छा बहुत जल्द पूर्ण करती है|

durga devichi aarti

दुर्गे दुर्घट भारी तुजविण संसारी, दुर्गे दुर्घट भारी आरती,दुर्गे दुर्घट भारी संसारी

दुर्गे दुर्घट भारी तुजविण संसारी ।अनाथनाथे अंबे करुणा विस्तारी ॥

वारी वारी जन्ममरणांतें वारी । हारी पडलो आता संकट निवारी ॥ 1 ॥

जय देवी जय देवी महिषासुरमर्दिनी । सुरवरईश्वरवरदे तारक संजीवनी ॥ धृ ॥

त्रिभुवनभुवनी पाहता तुजऐसी नाही । चारी श्रमले परंतु न बोलवे कांही ॥

साही विवाद करिता पडिले प्रवाही । ते तूं भक्तांलागी पावसि लवलाही॥ जय देवी…

प्रसन्नवदने प्रसन्न होसी निजदासा । क्लेशांपासुनि सोडवी तोडी भवपाशा ॥

अंबे तुजवांचून कोण पुरविल आशा । नरहरि तल्लीन झाला पदपंकजलेशा॥ जय देवी…

durga devichi aarti in marathi, durge durghat bhari aarti

अगर आप ऊपर दी गई जानकारी से संतुष्ट नहीं है तो गूगल पर सर्च कर करके अपनी परेशानी का हल प्राप्त कर सकते है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *