Fri. Jan 27th, 2023
थायराइड का रामबाण इलाज

थायराइड का रामबाण इलाज : आज के समय में थायरॉइड की परेशानी से ग्रसित इंसानो की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है| थायरॉइड की परेशानी पुरुषो के मुकाबले महिलाओ में ज्यादा देखने को मिलती है,आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में अस्वस्थ और असंतुलित खान पान,मानसिक और शारीरिक तनाव इत्यादि परेशानियो का सामना करना आम बात होती है,थायरॉइड की परेशानी भी इन्ही वजहों से होती है|

आयुर्वेद की माने तो अगर किसी भी महिला या पुरुष के शरीर में वात और कफ दोष होने की वजह से थायरॉइड की परेशानी होती है। लेकिन कया आपको पता है की थायराइड का रामबाण इलाज आप घरेलू नुस्खों से भी कर सकते है,लेकिन घरेलू नुस्खे अगर किसी वैध की सलाह से अपनाएं जाएं तो परिणाम बेहतर और जल्दी प्राप्त होते है| थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय आपको आयुर्वेदिक में मिल सकते है,बस आपको आयुर्वेदिक उपायों को पूर्ण और सही तरीके से करना होगा|

Table of Contents

थायराइड क्या है? (What is Thyroid in Hindi?)

प्रत्येक महिला या पुरुष के शरीर में थायराइड ग्रंथि मौजूद होती है,थायराइड ग्रंथि ही शरीर में मौजूद सभी कोशिकाओं को नियंत्रित करने के साथ साथ उनमे रक्त पहुंचाने का कार्य भी करती है| थायराइड ग्रंथि में अगर परेशानी आ जाती है तो इंसान को कई प्रकार की परेशानियो का सामना करना पड़ सकता है जैसे

हाइपरथॉयराइडिज्म (Hyperthyroidism in hindi) या हाइपोथॉयराडिज्म (Hypothyroidism in hindi) होते है। थाइराइड ग्रन्थियाँ हमारे शरीर में मौजूद सबसे बड़ी अतस्रावी ग्रंथियों में से एक होती है,जिन्हे अवटु ग्रंथि के नाम से भी जाना जाता है|

थायराइड को गले की बीमारी के रूप में जाना जाता है,थायराइड का पता शुरूआती दौर में बहुत मुश्किल से ही पता चल पाता है,जब थायराइड की परेशानी बढ़ जाती है तब इसका पता चलता है|

थायराइड कितने प्रकार के होते हैं ? थायराइड रोग के प्रकार (Thyroid Types in Hindi)

ऊपर आपने जाना की थायराइड कया होता है,चलिए अब हम आपको थायराइड कितने प्रकार के होते हैं,इसकी जानकारी उपलब्ध कराते है| थायराइड का रामबाण इलाज करने से पहले आपको यह जानना भी जरुरी है की थायरॉइड दो प्रकार का होता है –

1 – थायराइड ग्रंथि की अतिसक्रियता या हाइपरथॉयराइडिज्म (Hyperthyroidism in hindi)

किसी भी इंसान के शरीर में जब थायराइड ग्रंथि की सक्रियता अधिक होने की वजह से T3 और T4 हार्मोन का उत्पादन जरुरत से अधिक होने लगता है। शरीर में जब T3 और T4 हार्मोन्स की मात्रा अधिक होने लगती है तो शरीर ऊर्जा का इस्तेमाल ज्यादा मात्रा में करने लगता है। इसे ही हाइपरथायरायडिज्म (Hyperthyroidism) कहा जाता है,हाइपरथायरायडिज्म की परेशानी पुरुषों की तुलना महिलाओं में अधिक देखने को मिलती है,हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण निम्न प्रकार है –

  • किसी भी इंसान के शरीर थायराइड हार्मोन की मात्रा बढ़ने पर मेटाबोलिज्म बढ़ने लगता है|
  • किसी भी इंसान को घबराहट या अधिक पसीना आने की परेशानी का होना|
  • बिना किसी वजह से चिड़चिड़ापन होना
  • अचानक से बाल पतले और झड़ने लगे|
  • नींद ना आना
  • बिना किसी कारण अगर मांसपेशियों में कमजोरी और दर्द का होना
  • किसी भी काम को करते हुए या बिना काम के भी हाथों का काँपना।
  • अचानक से दिल की धड़कन का बढ़ना।
  • बहुत भूख लगने और खाना सही मात्रा में खाने के बाद भी वजन का घटना।
  • महिलाओं में अनियमित पीरियड्स ।

2 – अल्पसक्रियता या हाइपोथॉयराडिज्म (Hypothyroidism in hindi)

थायराइड ग्रंथि की सक्रियता जब कम हो जाती है तो हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism) की परेशानी हो जाती है| हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण या पहचान निम्न प्रकार है –

  • धड़कन की गति कम या धीमी हो जाना ।
  • शरीर हमेशा थका थका सा रहना
  • मेटाबोलिज्म की वजह से वजन बढ़ना।
  • अगर आपके नाख़ून पतले हो रहे हो या टूट रहे हो।
  • पसीना कम आना।
  • त्वचा में सूखापन और खुजली की परेशानी का होना।
  • मांसपेशियों में अकड़न महसूस होना।
  • बाल अधिक मात्रा में झड़ रहे हो|
  • बिना किसी वजह से चेहरे पर और आँखों में सूजन आना।
  • सोचने और समझने की शक्ति का कम होना।
  • कोलेस्ट्रॉल की मात्रा का बढ़ना|

थायराइड रोग होने के कारण (Thyroid Causes in Hindi)

ऊपर आपने थायराइड के बारे में जाना,अगर आप थायराइड की परेशानी से पीड़ित है और थायराइड का रामबाण इलाज सर्च कर रहे है तो पहले आपको थायराइड होने के कारणों के बारे में भी जानना चाहिए| थायरॉइड होने के निम्न कारण हो सकते है –

  • कोई भी इंसान जब अधिक तनावपूर्ण जीवन जीता है तो ऐसे इंसान में तनाव का असर थायरॉइड हार्मोन (Thyroid harmone) की सक्रियता पर भी पड़ता है।
  • शरीर में आयोडीन की मात्रा कम या ज्यादा होने से भी थायरॉइड ग्रंथियाँ प्रभावित होती हैं।
    थायराइड अनुवांशिक परेशानी भी है,अगर आपके परिवार के किसी सदस्य को थायराइड की परेशानी है तो यह अन्य सदस्यों को भी हो सकती है।
  • जब कोई महिला गर्भवती होती है तो उसके शरीर में हार्मोन्स बदलाव होते है,जिसका असर थायरॉइड हार्मोन्स पर भी पड़ता है|
  • थायरॉइड ग्रंथि में सूजन आने की वजह से भी हाइपोथायरायडिज्म की परेशानी हो सकती है|
  • शरीर में आयोडिन की कमी की वजह से भी हाइपोथायरायडिज्म हो सकता है|
  • किसी भी महिला या पुरुष के शरीर में अगर विटामिन बी12 की मात्रा कम हो जाती है तो ऐसे इंसान को हाइपोथायरायडिज्म की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है|

थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि

आज के समय अधिकतर इंसान किसी भी बीमारी से पीड़ित होने पर पतंजलि की दवा सर्च करता है| अगर आप भी थायराइड की समस्या को जड़ से खत्म करने की दवा पतंजलि में सर्च कर रहे है तो हम आपको स्वामी रामदेव थायराइड का रामबाण इलाज पतंजलि के बारे में जानकारी दे रहे है,निम्न उपाय अपनाकर आपको बहुत जल्द असर दिखाई देने लगेगा 

  • पतंजलि की कंचनार गुग्गुल वटी और वद्दिवाटिका वटी की 2 गोली कासेवन करें,बच्चे को 1 गोली का सेवन कराए। दवाई पर दिए गए निर्देश या चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद ही सेवन करें|
  • पतंजलि त्रिकुटा चूर्ण का सेवन नियमित रूप से करे
  • अश्वगंधा और गिलोय की 1-1 गोली का सेवन करें।
  • नियमित रूप से सुबह को एलोवेरा और आंवला का जूस पिएं।

प्याज से थायराइड का इलाज

अगर आप थायराइड की परेशानी से ग्रसित है तो थायराइड का रामबाण इलाज है लाल प्याज| सुनने में आपको अजीब लग सकता है लेकिन यह नुस्खा थाइराइड का इलाज करने में काफी असरदायक माना जाता है|
एक लाल प्याज लेकर उसे बीच में से काट लें,नियमित रूप से रात को सोने से पहले लाल प्याज गर्दन पर हल्के हाथो से मलें| नियमित रूप से प्याज का इस्तेमाल करने से जल्द ही आपको थाइराइड की परेशानी में राहत प्राप्त होगी|

थायराइड का रामबाण इलाज

थायरॉइड रोग का घरेलू इलाज करने के उपाय (Home Remedies for Thyroid Disease in Hindi)

नीचे बताए जा घरेलू उपाय अपनाकर आप बहुत आसानी से थायराइड की परेशानी को दूर कर सकते है| अगर आप थायराइड का रामबाण इलाज ढूंढ रहे है तो नीचे बताए जा रहे नुस्खों को आजमायें –

थायरॉइड के इलाज है नारियल का तेल (Treatment of Thyroid in Hindi)

नारियल के तेल मौजूद गुण और पोषक तत्व थाइराइड की परेशानी को कम करने में सहायक होते है| अगर आप थाइराइड की परेशानी से ग्रसित है तो आप नारियल के तेल (थायराइड का रामबाण इलाज) का इस्तेमाल खाना बनाने में या सलाद में डालकर सेवन कर सकते है|

थायरॉइड का रामबाण इलाज है अलसी के बीज का चूर्ण (Benefits of Flax seed Powder for Thyroid in Hindi)

अलसी में मौजूद ओमेगा-3 और अन्य पोषक तत्व थाइराइड की परेशानी को कम करने में मददगार होते है| अलसी के बीज का उपयोग आपके लिए थायराइड का रामबाण इलाज साबित हो सकता है| थोड़े से अलसी बीजो को लेकर उन्हें महीन पीस कर चूर्ण बना लें,नियमित रूप से अलसी के बीजो का चूर्ण का सेवन करने से आपको जल्द लाभ मिलेगा|

थायराइड की देसी दवा है एलोवेरा

एलोवेरा में मौजूद गुण शरीर की बहुत सारी बीमारी को सही करने में सहायक होते है,अगर आप थायराइड का रामबाण इलाज सर्च कर रहे है तो एलोवेरा आपके लिए लाभकारी है| नियमित रूप से एलोवेरा जूस पीने से थायराइड की परेशानी से राहत प्राप्त होती है| एक चम्मच एलोवेरा जूस (थायराइड का रामबाण इलाज) को एक गिलास गुनगुने पानी में डालकर अच्छी तरह से मिलकर पी लें,दिन में एक बार इस जूस को पीने से जल्द लाभ प्राप्त होता है|

थायराइड का घरेलू उपाय है आंवला

आवंले के गुणों के बारे में हम सब भली भांति जानते है,लेकिन कई आप जानते है की आवंला थायराइड की परेशानी को भी कम करता है| सबसे पहले एक गिलास गुनगुना पानी लें अब इसमें लगभग चम्मच आवंला चूर्ण (थायराइड का रामबाण इलाज) डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें,नियमित रूप से इस जूस को पीने से कुछ ही दिनों में थायराइड की परेशानी से मुक्ति मिल जाती है|

थायराइड का घरेलू इलाज है सेब का सिरका

सेब का सिरका थायराइड की परेशानी को कम करने में सहायक होता है| नियमित रूप से सुबह और शाम को खाना खाने से लगभग एक घंटा पहले एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें| कुछ लोग आवंले को थायराइड का रामबाण इलाज भी मानते है|

थायराइड का रामबाण इलाज है लौकी का जूस

लौकी का जूस थायराइड की परेशानी को कम करने में काफी ज्यादा असरदायक होता है| लौकी का जूस बनाने के लिए सबसे पहले थोड़े से लौकी के टुकड़ें और 5 पुदीने के पत्ते लेकर थोड़ा सा पानी डालकर इन्हे मिक्सी की सहायता से पीस लें,फिर इस मिश्रण को छान लें,फिर इस मिश्रण में लगभग एक चम्मच काली मिर्च का पॉउडर, स्वादनुसार नमक और 3 या 4 बूंदे निम्बू के रास की डालकर अच्छी तरह से मिलाकर पी लें| नियमित रूप से इस जूस को सुबह खाली पेट पीने से कुछ ही दिनों थायराइड की परेशानी दूर हो जाती है| लौकी के जूस को थायराइड का रामबाण इलाज माना जाता है|

थायराइड का अचूक इलाज है हरा धनियां

हरे में धनिएं में थायराइड हार्मोन को कम करने वाला गुण मौजूद होता है,इसीलिए धनिए का सेवन करने से आपको थायराइड की परेशानी में राहत प्राप्त होती है| सबसे पहले थोड़े से हरे धनिए को लेकर उसकी पत्तियां तोड़ लें,अब इन पत्तियों को अच्छी तरह से धोकर महीन पेस्ट कर पेस्ट बना लें|

एक गिलास गुनगुने पानी में हरे धनिए की पत्तियों का पेस्ट डाल का पीने से लाभ होता है| नियमित रूप से इस नुस्खे का इस्तेमाल सुबह खाली पेट करना चाहिए| धनिए में मौजूद एंटी थायराइड गुण की वजह से थायराइड का रामबाण इलाज भी कह सकते है|

थायराइड का घरेलू उपचार है काली मिर्च पॉउडर

काली मिर्च में मौजूद तत्व थायराइड हार्मोन को संतुलित करने में सहायक होते है| चार से पांच काली मिर्च लेकर उन्हें महीन पीस कर पॉउडर बना लें,अब लगभग एक गिलास गुनगुने पानी में काली मिर्च पॉउडर डाल कर अच्छी तरह से मिला लें,बस अब इस मिश्रण को थोड़ा थोड़ा करके पी लें| नियमित रूप से दिन में एक बार इस नुस्खे (थायराइड का रामबाण इलाज) को अपनाने से जल्द आपको राहत प्राप्त हो जाएगी|

थायराइड का इलाज है मुलेठी (Home Remedies for Thyroid Treatment in Hindi)

मुलेठी में मौजूद ट्रीटरपेनोइड ग्लाइसेरीथेनिक एसिड थायराइड की परेशानी को कम करने में मददगार होता है| मुलेठी का उपयोग आप सीधेतौर पर भी कर सकते है या थोड़ी सी मुलेठी लेकर उसे कूट लें, फिर उन कूटी हुई मुलेठी (थायराइड का रामबाण इलाज) को पानी में डालकर उबाल लें, फिर पानी को ठंडा होने पर छानकर पी लें|

थायराइड का रामबाण इलाज है हल्दी

सौ बीमारियो की एक दवा है हल्दी,हल्दी को एक औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है| हल्दी में मौजूद गुण और पोषक तत्व थायराइड की बीमारी को रोकने में मददगार होते है| एक गिलास दूध में थोड़ी सी हल्दी डालकर अच्छी तरह से पका लें,ठंडा होने पर दूध पी लें| नियमित रूप से हल्दी वाला दूध पीने से कुछ ही दिनों में थायराइड की परेशानी से राहत मिल जाती है,थायराइड का रामबाण इलाज काफी फायदेमंद है|

थायराइड में आहार, थायराइड में क्या क्या खाना चाहिए

किसी भी इंसान को जब कोई बिमारी हो जाती है और वो अपने खान पान का ख्याल नहीं रखता है तो उसे उस बीमारी से जल्दी छुटकारा नहीं मिलता है| अगर आप थायराइड की परेशानी से ग्रसित है तो आपको निम्न चीजों का सेवन करना चाहिए –

  • थायराइड की परेशानी में मरीज को हरी सब्जियां, फल या फलों का जूस इत्यादि चीजों का सेवन करना चाहिए,जिनमे पोषण तत्व भरपूर मात्रा में हो|
  • मछली और बीन्स का सेवन लाभकारी हो सकता है क्योंकि इनमे प्रोटीन की मात्रा प्रचुर होती है|
  • सब्जी या दाल बनाने के लिए ऑलिव आयल या जैतून का तेल का उपयोग लाभकारी होता है|
  • अपने खाने में ऐसी चीजों को शामिल करें जिनमे फाइबर की मात्रा प्रचुर हो|

थायराइड में कया नहीं खाना चाहिए, थायराइड में परहेज क्या करना चाहिए?

अक्सर थायराइड से ग्रसित इंसान परेशान रहता है यह जानने के लिए की उसे थायराइड में कया नहीं खाना चाहिए या किन चीजों का परहेज करना चाहिए,थायराइड की समस्या के दौरान आपको निम्न चीजों से परहेज करना चाहिए – 

  • ऐसी चीजों के सेवन से बचें जिसमे कार्बोहाइड्रेट अधिक मात्रा में हो|
  • सॉफ्ट ड्रिंक जैसे अन्य पेय पदार्थों का सेवन करने से बचें।
  • अगर आप थायराइड की परेशानी से ग्रसित है तो आपको दूध का सेवन नहीं करना चाहिए|
  • जंक फूड जैसे – चिप्स, कैंडी, बर्गर व पिज्जा इत्यादि का सेवन ना करें|

थायराइड का होम्योपैथिक इलाज, थायराइड की होम्योपैथिक दवा

अगर आप थायराइड की परेशानी का इलाज होम्योपैथिक दवा से करना चाहते है तो यह भी आपके लिए काफी लाभदायक साबित हो सकता है| होम्योपैथिक दवाई से आपको थायराइड की परेशानी से मुक्ति (थायराइड का रामबाण इलाज) मिल जाएगी| लेकिन होम्योपैथिक दवाई का सेवन होम्योपैथिक डॉक्टर के परामर्श के बाद ही लें|

होम्योपैथिक डॉक्टर आपके शरीर के हिसाब से उचित दवा और सही मात्रा की जानकारी आपको देते है,जिससे आपकी बिमारी जल्द ठीक हो जाती है| होम्योपैथिक दवाई के साथ किन चीजों का परहेज या सेवन करना है इसकी जानकारी भी डॉक्टर आपको देते है| थायराइड की होम्योपैथिक दवाई निम्न है –

  • ब्रोमियम (Bromium)
  • कैल्केरिया कार्बोनिका (Calcarea Carbonica)
  • फुकस वेसिकुलोसस (Fucus Vesiculosus)

योगासन से थायरॉइड का उपचार (Yoga for Thyroid Disease)

योग करने से भी आप थायराइड की परेशानी में राहत प्राप्त कर सकते हो,निम्न योग आपके लिए लाभकारी हो सकते है|

  • प्राणायाम एवं ध्यान।
  • सूर्य नमस्कार।
  • पवनमुक्तासन।
  • सर्वांगासन ।
  • हलासन ।
  • मत्स्यासन ।

उम्मीद है की आपको हमारा लेख थायराइड का रामबाण इलाज पसंद आया होगा,अगर आपको हमारा लेख अधूरा लगा हो या आप संतुष्ट नहीं है तो आप गूगल या बिंग पर थायराइड का रामबाण इलाज लिखकर सर्च कर सकते है|

सवाल और जवाब

थायराइड में कौन सा फल नहीं खाना चाहिए?

अगर आप थायराइड की परेशानी से ग्रसित है तो आपको गाजर,शलजम, पीच, नाशपाती और स्ट्रॉबेरी जैसी चीजों का सेवन ना करें तो बेहतर होगा |

थायराइड में कौन सा जूस पीना चाहिए?

थायराइड की परेशानी में लौकी के जूस को सबसे बेहतर माना गया है,रोजाना सुबह खाली पेट लौकी का जूस पीने से थायराइड की परेशानी बहुत जल्द कम हो जाती है|

प्रेगनेंसी में थायराइड हो तो क्या खाये?

गर्भवती महिला को दूध से बने उत्‍पाद, सीफूड, अंडे, मीट और आयोडीन युक्त नामक का सेवन लाभकारी होता है,लेकिन हम आपको सलाह देंगे की अगर आप गर्भवती है और आपको थायराइड की परेशानी हो गई है तो चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद ही किसी चीज का सेवन करें|

थायराइड टेस्ट नार्मल कितना होना चाहिए?

वयस्कों में थायराइड का सामान्य स्तर 0.4 से 5 मिली इंटरनेशनल यूनिट्स प्रति लीटर को नार्मल माना जाता है|

थायराइड में कौन सा योग करना चाहिए?

अगर आप थायराइड से ग्रसित है तो आपके लिए निम्न योग लाभकारी हो सकते है –

  • विपरीत करनी विपरीत करनी योग
  • सर्वांगासन
  • मत्सयासन

थायराइड में मूंगफली खा सकते हैं क्या?

थायराइड की परेशानी में अगर मूंगफली का सेवन ना किया जाए तो बेहतर होता है,बाकी आप चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद सेवन कर सकते है|

प्रेगनेंसी में थायराइड लेवल कितना होना चाहिए?

अगर आप प्रेग्नेंट है तो शुरूआती तीन महीनों के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में थाइरॉयड लेवल 0.1 ml/u से 2.5 ml/u के बीच होना चाहिए।

थायराइड कौन सी विटामिन की कमी से होता है?

विटामिन डी की कमी से हाइपो थायरॉयड की बीमारी होने की सम्भावना प्रबल होती है|

थायराइड में चावल खाना चाहिए या नहीं ?

थायराइड से पीड़ित महिला या पुरुष को चावल खाने से बचना चाहिए,अगर आपका चावल खाने का बहुत ज्यादा मन है तो आप सफेद चावल की जगह ब्राउन चावल का उपयोग कर सकते है|

थायराइड का रामबाण इलाज, थायराइड का रामबाण इलाज, थायराइड का रामबाण इलाज

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!