Wed. May 25th, 2022
Mangalvar Ki Aarti

Mangalvar Ki Aarti : मंगलवार का दिन हनुमान जी को समर्पित होता है| जो भी इंसान मंगलवार के दिन व्रत रखने से इंसान की सभी इच्छा को हनुमान जी बहुत जल्द पूर्ण करते है| अगर आपने भी मंगलवार का व्रत रखा है और आप मंगलवार की आरती ढूंढ रहे है तो आप बिलकुल सही जगह पर पहुँच गए है, आज हम आपको इस लेख मंगलवार की सम्पूर्ण आरती उपलबध करने जा रहे है-

Mangalvar Ki Aarti
Mangalvar Ki Aarti : मंगलवार की आरती

मंगलवार व्रत की आरती,हनुमान जी की मंगलवार आरती

मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता, मंगल मंगल देव अनन्ता
हाथ वज्र और ध्वजा विराजे, कांधे मूंज जनेउ साजे
शंकर सुवन केसरी नन्दन, तेज प्रताप महा जग वन्दन॥ मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता ॥

लाल लंगोट लाल दोउ नयना, पर्वत सम फारत है सेना
काल अकाल जुद्ध किलकारी, देश उजारत क्रुद्ध अपारी॥ मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता ॥

राम दूत अतुलित बलधामा, अंजनि पुत्र पवन सुत नामा
महावीर विक्रम बजरंगी, कुमति निवार सुमति के संगी॥ मंगल मूरति जय जय…॥

भूमि पुत्र कंचन बरसावे, राजपाट पुर देश दिवाव
शत्रुन काट-काट महिं डारे, बन्धन व्याधि विपत्ति निवारें॥ मंगल मूरति जय…..॥

आपन तेज सम्हारो आपे, तीनो लोक हांक ते कांपै
सब सुख लहैं तुम्हारी शरणा, तुम रक्षक काहू को डरना॥ मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता ॥

तुम्हरे भजन सकल संसारा, दया करो सुख दृष्टि अपारा
रामदण्ड कालहु को दण्डा, तुमरे परस होत सब खण्डा॥ मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता ॥

पवन पुत्र धरती के पूता, दो मिल काज करो अवधूता
हर प्राणी शरणागत आये, चरण कमल में शीश नवाये॥ मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता ॥

रोग शोक बहुत विपत्ति घिराने, दरिद्र दुःख बन्धन प्रकटाने
तुम तज और न मेटन हारा, दोउ तुम हो महावीर अपारा॥ मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता ॥

दारिद्र दहन ऋण त्रासा, करो रोग दुःस्वप्न विनाशा
शत्रुन करो चरन के चेरे, तुम स्वामी हम सेवक तेरे॥ मंगल मूरति जय जय…. ॥

विपत्ति हरन मंगल देवा अंगीकार करो यह सेवा
मुदित भक्त विनती यह मोरी, देउ महाधन लाख करोरी॥ मंगल मूरति जय ……॥

श्री मंगल जी की आरती हनुमत सहितासु गाई
होइ मनोरथ सिद्ध जब अन्त विष्णुपुर जाई॥ मंगल मूरति जय जय हनुमन्ता ॥

Mangalvar Vrat Ki Aarti Lyrics in Enlish, Mangalvar Ki Aarti in English, Mangalvar Ki Aarti

Agar aapne mangalvar ka vrat rakha hai or aap mangalvar ki aarti English me dhund rahe hai to pareshan mat hoie is lekh me hum aapko mangalvar ki aarti English me uplabdh kara rahe hai.kafi saare log google or bing par dhundhte hai lekin unhe English me manglvar ki aarti nahi mil paati hai.  

Mangal murati jay jay hanumanta, mangal mangal dev ananta
hath vajr aur dhvaja viraje, kandhe munj janeu saje
sankar suvan kesari nandan, tej pratap maha jag vandan
Mangal murati jay jay hanumanta॥

Laal langot lala dou nayana, parvat sam farat hai sena
kal akal juddh kilakari, desh ujarat kruddh apari
Mangal murati jay jay….॥

Ram doot atulit baladham, anjani putr pavan sut nama
mahavir vikram bajarangi, kumati nivar sumati ke sangi
Mangal murati jay jay……॥

Bhumi putr kancan barasave, rajapaat pur desh divav
satrun kaat-kaat manhi daare, bandhan vyadhi vipatti nivare
Mangal murati jay jay hanumanta॥

Apan tej samharo aape, tino lok haank te kampe
sab sukh lahai tumhari sarana, tum rakshak kahu ko darna
Mangal murati jay jay hanumanta॥

Tumhre bhajan sakal sansara, daya karo sukh drsti apara
ramadand kalahu ko danda, tumare paras hot sab khanda
Mangal murati jay jay……॥

Pavan putr dharati ke puta, do mil kaj karo avadhuta
har prani saranagat aye, charan kamal me shish navaye
Mangal murati jay jay…..॥

Rog shok bahut vipatti ghirane, daridr dukh bandhan prakatane
tum taj aur na metan hara, dou tum ho mahavir apara
Mangal murati jay……॥

Daridr dahan ranrn traasa, karo roga duhsvapna vinasa
satrun karo charan ke chere, tum svami hum sevak tere
Mangal murati jay……..॥

Vipatti haran mangal deva angikar karo yah seva
mudit bhakt vinati yah mori, deu mahadhan lakh karori
Mangal murati jay jay hanumanta॥

Sri mangal ji ki arati hanumat sahitasu gaii
hoi manorath siddh jab ant vishnupur jai
Mangal murati jay jay hanumanta॥

Mangalvar Ki Aarti complete , Mangalvar Ki Aarti bhajan

mangalwar ki aarti lyrics , mangalwar ki aarti lyrics in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!