best migraine treatment at home in hindi, माइग्रेन के घरेलू उपाय, लक्षण और परहेज

best migraine treatment at home in hindi, माइग्रेन के घरेलू उपाय, लक्षण और परहेज

migraine treatment at home in hindi : आज के समय में माइग्रेन की समस्या से पीड़ित इंसानो की संख्या काफी हो गई है| माइग्रेन को सिरदर्द का एक प्रकार माना जाता है और माइग्रेन की समस्या मस्तिष्क में तंत्रिका तंत्र में परेशानी होने की वजह से होता है। माइग्रेन का दर्द सर के आधे हिस्से में होता है और कई बार माइग्रेन का दर्द होने पर इंसान को मतली, उल्टी इत्यादि परेशानियो का सामना भी करना पड़ जाता है| कुछ लोग माइग्रेन के दर्द को आनुवांशिक भी मानते है|

Table of Contents

माइग्रेन क्या होता है? (What is Migraine in hindi?)

आयुर्वेद के अनुसार माइग्रेन की परेशानी वात दोष की वजह से होती है| जब किसी भी इंसान के शरीर में वात दोष में परेशानी होने लगती है तो उसकी वजह से न्यूरोलॉजी से संबंधित परेशानी बड़ जाती है| न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का सम्बन्ध केवल दिमाग से ही नहीं होता है बल्कि गर्दन और कान से सम्बंधित परेशानी भी न्यूरोलॉजिकल समस्याओ में ही आती है| माइग्रेन की समस्या (migraine treatment at home in hindi) के असली कारण का पता ब्रेन की एमआरआई या सीटी स्कैन करवाने पर ही चलती है|

माईग्रेन का नाम सभी जानते है लेकिन बहुत कम लोग जानते है की माइग्रेन दो प्रकार का होता है माइग्रेन का पहला प्रकार है क्लासिक माइग्रेन| क्लासिक माइग्रेन की स्थिति में इंसान को कुछ ऐसे लक्षण दिखाई देते है,जिनसे आप यह समझ सकते है की आपको माइग्रेन का अटैक आने वाला है| अगर आपको सिर दर्द की शुरुआत होने से पहले धुंधला धुंधला दिखाई दे रहा हो,कंधे में जकड़न और जलन महसूस हो रही हो इत्यादि लक्षण दिखने पर आपको कभी लापरवाही नहीं करनी चाहिए तुरंत किसी अच्छे चिकित्सक से परामर्श लें|

माइग्रेन का दूसरा प्रकार है नॉन क्लासिक माइग्रेन | इस तरह के माइग्रेन में आपको पहले से कोई लक्षण मुश्किल से ही दिखाई देता है, इस माइग्रेन (migraine treatment at home in hindi) में आपको समय-समय पर सिर में तेज दर्द की परेशानी होती है, इसीलिए लापरवाही नहीं करनी चाहिए डॉक्टर से परामर्श जरूर लें|

माइग्रेन के लक्षण (Symptoms of Migraine in hindi)

सिर में दर्द की परेशानी किसी भी इंसान को कभी भी हो सकती है या अधिकतर इंसानो को सिर दर्द की समस्या का सामना कभी ना कभी करा ही होता है| ऐसे में आम इंसान के लिए सबसे बड़ी परेशानी यह होती है की आखिर वो माईग्रेन के दर्द को कैसे पहचाने की सिर में होने वाला दर्द सामान्य सिर दर्द है या माइग्रेन का दर्द| माइग्रेन के दर्द की पहचान दृष्टि संबंधी परेशानी को देखकर भी किया जा सकता है| अगर आपको रुक रुककर चमकीली रोशनी, टेढ़ी-मेढ़ी रेखाएं,आंखों के सामने काले धब्बे, आंखों के नीचे काले घेरे होना या सिर के एक ही हिस्से में दर्द इत्यादि परेशानी हो रही है तो माइग्रेन के लक्षण होते हैं।

माइग्रेन की परेशानी एक न्यूरोलॉजिकल समस्या होती है, जिसमे इंसान को थोड़े थोड़े समय में सिर की एक तरफ चुभन या दर्द की परेशानी होती है| माइग्रेन का दर्द कई बार कुछ घंटो में ही सही हो जाता है लेकिन कई बार माइग्रेन का दर्द दो से तीन दिन तक भी रहता है। माईग्रेन के दर्द में इंसान को सिर में दर्द के साथ साथ गैस, मितली, उल्टी इत्यादि परेशानी का सामना करना पड़ सकता है| अगर आपको माईग्रेन की परेशानी है तो आपको तेज रोशनी और तेज आवाज से दिक्कत होती है। ऊपर बताए गए सभी लक्षणों में से दो या तीन से ज्यादा लक्षण दिखाई देने पर आप माइग्रेन से पीड़ित मान सकते है| लेकिन हम आपको सलाह देंगे की माइग्रेन (migraine treatment at home in hindi) का पूर्ण पता करने के लिए डॉक्टर से परामर्श लेकर टेस्ट करवाएं, टेस्ट से ही आपको कन्फर्म हो सकता है|

माइग्रेन क्यों होता है? (Causes of Migraine in hindi)

माइग्रेन का दर्द सिर के एक हिस्से में होता है और यह दर्द इतना तेज होता है की मरीज कई बार तड़पने तक लगता है| माइग्रेन का दर्द कई बार पूरे सिर में भी हो जाता है, माइग्रेन के दर्द को अधकपारी या अर्द्धशीशी भी कहते हैं। आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक दिमाग या चेहरे की रक्त वाहिनियों में गड़बड़ी की वजह से माइग्रेन का दर्द होता है और इसके अलावा गलत खान-पान, वातावरण में बदलाव, मानसिक तनाव ज्यादा होने पर माइग्रेन की समस्या हो सकती है| माइग्रेन होने कुछ कारणों के बारे में हम आपको नीचे बता रहे है –

  • आजकल की जिंदगी में शायद ही कोई इंसान हो जिसे तनाव ना हो, किसी को नौकरी का तनाव, किसी को परिवार का इत्यादि| जब किसी भी इंसान को मानसिक तनाव ज्यादा रहता है तो उस मानसिक तनाव की वजह से माइग्रेन की परेशानी (migraine treatment at home in hindi) हो सकती है| तनाव का असर इंसान के शरीर पर सबसे ज्यादा प्रभाव डालता है|
  • किसी भी इंसान के शरीर में जब हार्मोन्स में बदलाव या हार्मोन असंतुलन हो जाते है तो इस हार्मोन्स में बदलाव की वजह से शरीर में एस्ट्रोजेन हार्मोन के स्तर में कमी आ जाती है जिसकी वजह से सिरदर्द या माइग्रेन की परेशानी हो सकती है| महिलाओं में पीरियड्स से पहले या बाद में सिरदर्द की परेशानी हो सकती है|
  • ऐसे इंसान जो बीयर, रेड वाइन, चॉकलेट, पनीर, एस्पार्टेम, मोनोसोडियम ग्लूटामेट और कैफीन इत्यादि का सेवन अधिक मात्रा में करने की वजह से भी माइग्रेन की समस्या हो सकती है।
  • ऐसे इंसान जो ठीक से सो नहीं पाते है या रात रात भर जागते है ऐसे इंसान को कम सोने की वजह से सिर में दर्द की परेशानी का सामना करना पड़ सकता है|
  • बहुत ज्यादा परिश्रम या मेहनत करने की वजह से भी माइग्रेन की समस्या हो सकती है|

migraine treatment at home in hindi

माइग्रेन के घरेलू उपाय, अधकपारी का घरेलू इलाज (Home Remedies for Migraine)

माइग्रेन के दर्द का इलाज आप घरेलू नुस्खों से भी कर सकते है| माइग्रेन के घरेलू उपाय या माइग्रेन के घरेलू उपाय इन हिंदी की जानकारी हम आपको नीचे उपलब्ध करा रहे है|

माइग्रेन के घरेलू उपाय है धनियां (migraine treatment at home in hindi)

लगभग सभी घरो में धनिए का इस्तेमाल खाना बनाने में किया जाता है,धनियां खाने को स्वादिष्ट बनाने के साथ साथ हमारे पाचन तंत्र को भी सही रखने में मददगार होता है| अगर आप माइग्रेन की समस्या से पीड़ित है और माइग्रेन का घरेलू उपाय धनिए से कर सकते है| धनिये के बीजों की चाय का सेवन करने से माइग्रेन की परेशानी (migraine treatment at home in hindi) में बहुत ज्यादा लाभ मिलता है|

अधकपारी का घरेलू इलाज है कॉफ़ी (migraine treatment at home in hindi)

कॉफ़ी लगभग सभी लोगो को पसंद होती है लेकिन कया आप जानते है कॉफी का इस्तेमाल आप माइग्रेन की समस्या से छुटकारा पाने में भी कर सकते है| कॉफी में मौजूद कैफीन नामक पोषक तत्व माइग्रेन की परेशानी को कम करने में मददगार होता है, कुछ लोगो को माइग्रेन के दर्द में कॉफी बहुत जल्दी असर दिखाती है, लेकिन कॉफी अधिक मात्रा में पीना आपके स्वास्थ के लिए हानिकारक हो सकती है, इसीलिए एक कप कॉफी दिन भर में पीने से आपको काफी लाभ मिलता है।

अधकपारी का घरेलू उपाय है पिपरमिंट (migraine treatment at home in hindi )

पिपरमिंट में मौजूद गुण और तत्व माइग्रेन की समस्या को कम करने में मददगार होते है| थोड़ा सा पिपरमिंट ऑयल लेकर सिर और माथे में लगा लें, उसके बाद हल्के हाथो से मालिश करें, पिपरमिंट ऑयल ठंडक प्रदान करने के साथ साथ आपके सिर के दर्द को भी कम करता है| इस ऑयल को आप अधकपारी का घरेलू इलाज या माइग्रेन के घरेलू उपाय (migraine treatment at home in hindi) भी कह सकते है|

अधकपारी का घरेलू उपचार है सेब का सिरका (migraine treatment at home in hindi)

अगर आप माइग्रेन की परेशानी से ग्रसित है और आप माइग्रेन का घरेलू उपाय ढूंढ रहे है तो सेब या सेब का सिरका आपके फायदेमंद हो सकता है| सेब केसिरके में मौजूद गुण माइग्रेन की समस्या को कम करने में सहायक होते है| नियमित रूप से एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका और एक चम्मच शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर सेवन करें|

इस नुस्खे को करने से आपको माइग्रेन की समस्या में लाभ मिलेगा उसके साथ साथ शरीर में शुगर की मात्रा को संतुलित और ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में, हड्डियों और जोड़ों में होने वाले दर्द को कम करने में सहायक होता है| अगर आपके पास सेब का सिरका उपलब्ध नहीं है तो नियमित रूप से सेब खा सकते है, सेब को आप माइग्रेन का घरेलू उपाय भी कह सकते है|

माइग्रेन का घरेलू उपचार है लैवेंडर का तेल (migraine treatment at home in hindi)

लैवेंडर के तेल मौजूद तत्व सामान्य सिरदर्द और माइग्रेन के दर्द दोनों में राहत पहुँचाता है,अगर आप माइग्रेन की समस्या की घरेलू दवा ढूंढ रहे है तो लेवेंडर का तेल फायदेमंद है| माइग्रेन या सामान्य सिर दर्द होने पर थोड़े से तेल को किसी कपड़ें या रुई में डालकर सूंघने से बहुत जल्दी राहत मिलती है| कुछ इंसानो के अनुसार लेवेंडर तेल की खुशबु माइग्रेन की परेशानी को कम करने में सहायक होती है|

अधकपारी का घरेलू इलाज है तुलसी का तेल (migraine treatment at home in hindi)

प्राचीन समय से ही तुलसी को औषधि के रूप में जाना जाता है,तुलसी के औषधीय गुण बहुत साड़ी बीमारियो को दूर करने में सहायक होते है| माइग्रेन के दर्द में तुलसी का तेल काफी प्रभावशाली माना जाता है। माइग्रेन का दर्द होने पर तुलसी के तेल से मालिश करने से आपको बहुत जल्द आराम मिलता है।

माइग्रेन के घरेलू उपाय है सिर की मालिश (migraine treatment at home in hindi)

जब किसी भी इंसान को किसी भी बात का तनाव होता है तो अगर उस इंसान के सिर की मालिश कर दी जाए तो उस इंसान को बहुत ज्यादा आराम और तनाव कम हो जाता है| अगर आप माइग्रेन के दर्द से ग्रसित है तो थोड़ा सा लेकर सिर के पीछे के हिस्से की हल्के हाथ से मालिश कराने से आपको दर्द में बहुत ज्यादा आराम मिलता है,सिर के साथ साथ हाथ पैरों की मालिश कराने से आपके शरीर में रक्त प्रवाह भी बढ़ता है और आप स्वस्थ भी महसूस करते हो। 

माइग्रेन के घरेलू उपाय है अदरक (migraine treatment at home in hindi)

माइग्रेन के दौरान होने वाली परेशानी जैसे जी मिचलाना या उल्टी की परेशानी होना इत्यादि में अदरक बहुत लाभकारी होता है| सबसे पहले एक गिलास पानी को उबलने रख दें, फिर उसमे थोड़ा सा अदरक लेकर उसे छीलकर छोटे छोटे टुकड़े करके पानी में डाल दें, पानी अच्छी तरह से उबल जाएं गैस बंद करके ठंडा होने दें| ठंडा होने पर पानी को छान लें| अब इस छने हुए पानी में नींबू की कुछ बूंदे और थोड़ा सा शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर सेवन करने से आपको काफी लाभ मिलता है।

माइग्रेन के दर्द में कया खाना चाहिए, माइग्रेन के दर्द में आहार 

माइग्रेन में कया खाना चाहिए और कया नहीं यह सवाल बहुत लोगो के मन में होता है,चलिए अब हम आपको बताते है की माइग्रेन में दर्द के दौरान आपको कया खाना चाहिए

  •  शरीर में पानी की कमी ना होने दें, नियमित रूप से 8 से 10 ग्लास पानी जरूर पिएँ, अगर आप पानी कम पीते है तो आपको डिहाइड्रेशन की परेशानी हो सकती है| माइग्रेन होने का एक कारण डिहाइड्रेशन भी है, इसीलिए माइग्रेन की समस्या (migraine treatment at home in hindi) से बचने के लिए पानी खूब पिये।
  •  गर्मी के मौसम ठंडीचीजें जैसे दही, छाछ लस्सी का सेवन करें|
  •  अगर आप माइग्रेन की समस्या (migraine treatment at home in hindi) से पीड़ित है तो आपको तरल पदार्थ जैसे निम्बू पानी, सूप और नारियाल पानी इत्यादि का सेवन जरूर करना चाहिए|
    – ताजी हरी सब्जियों का सेवन भरपूर करें|
  •  ताजे फलो का सेवन करें|
  • खाने में नमक की मात्रा कम से कम लें|

माइग्रेन के दर्द के दौरान कया ना खाएं, माइग्रेन में किन चीजों का परहेज

अगर आप नहीं जानते है की माइग्रेन के दर्द के दौरान आपको किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए तो अब हम आपको बताते है की आपको किन चीजों का परहेज करना चाहिए

  • गर्मियों के मौसम में गर्म चीजों (migraine treatment at home in hindi) का सेवन करने से बचना चाहिए, गर्मियों में चाय, कॉफी इत्यादि से परहेज करें|
  •  अधिक मिर्च और ज्यादा गरम मसाले वाला खाना खाने से बचना चाहिए|
  • ऐसी चीजों का सेवन बिलकुल ना करें जिससे आपका ब्लड प्रेशर बढ़ जाएं|
  • अगर आप गर्भनिरोधक गोलियां कहती है तो उनका सेवन कम मात्रा में या हो सके तो बिलकुल भी ना करें|
  • शराब और चॉकलेट इत्यादि का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि यह सभी चीजे सिरदर्द (migraine treatment at home in hindi) की वजह से भी बन सकती है|

उम्मीद है की आपको हमारा लेख माइग्रेन के घरेलू उपाय (migraine treatment at home in hindi) पसंद आया होगा| अगर आपको या आपके परिवार के किसी भी सदस्य में माइग्रेन के लक्षण दिखाई दे रहे है तो लापरवाही बिलकुल भी ना करें,तुरंत किसी चिकित्सक से परामर्श और इलाज करवाएं|
अगर आपको हमारा लेख माइग्रेन के घरेलू उपाय (migraine treatment at home in hindi) पसंद नहीं आया है तो आप गूगल या बिंग पर माइग्रेन के घरेलू उपाय (migraine treatment at home in hindi) लिखकर और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते है|

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!